For the best experience, open
https://m.creativenewsexpress.com
on your mobile browser.

पंतनगर/लालकुआं ब्रेकिंग : तेज रफ्तार हाईवा ट्रक ने स्कूटी सवार को रौंदा, मौके पर मौत

09:02 PM Feb 26, 2024 IST | CNE DESK
पंतनगर लालकुआं ब्रेकिंग   तेज रफ्तार हाईवा ट्रक ने स्कूटी सवार को रौंदा  मौके पर मौत
Advertisement

पंतनगर/लालकुआं | नगला बाईपास के पास तेज रफ्तार हाईवा ट्रक ने एक स्कूटी सवार को बुरी तरह से रौंद दिया फिर उसे लगभग पांच सौ मीटर तक घसीटता हुआ ले गया। इस हादसे में स्कूटी सवार की दर्दनाक मौत हो गई। सूचना पर पहुंची पंतनगर थाना पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर उसे पोस्टमार्टम के लिए रुद्रपुर भेज दिया है। इसके साथ ही पुलिस ने घटना को अंजाम देकर ट्रक लेकर भाग रहे आरोपी चालक को हिरासत में लेकर मामले की जांच शुरू कर दी है।

Advertisement
Advertisement

बताते चले कि सोमवार देर शाम चार बजे करीब स्कूटी संख्या यूके 06/बीई 0380 पर सवार अज्ञात अधेड़ किच्छा से लालकुआं की ओर जा रहा था। इसी दौरान नगला बाईपास में किच्छा से रुद्रपुर की ओर मिट्टी लादकर तेज गति में जा रहे हाईवा ट्रक संख्या यूके 04/सीए 2808 ने उसे रौंद दिया। स्कूटी हाईवे के पहियों में फंस गई और डंपर उसे लगभग पांच सौ मीटर तक घसीटते हुए ले गया। जिसमें स्कूटी सवार अधेड़ की दर्दनाक मौत हो गई।

Advertisement

इधर हाईवा ट्रक लेकर भाग रहे युवक को स्थानीय लोगों ने पीछा कर लगभग आधा किलोमीटर दूर पकड़ लिया और चालक की जबरदस्त पिटाई कर दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने चालक को हिरासत में लिया और डंपर व स्कूटी कब्जे में लेकर पंचनामे की कार्रवाई की। अधेड़ की शिनाख्त 47 वर्षीय जगदीश सिंह माली निवासी बाजपुर चौराह दवाई फार्म बिंदुखत्ता लालकुआं के रूप में हुई। मृतक के परिवार में एक बेटी और तीन बेटे हैं। मृतक अपने छोटे बेटे को बेटी के यहां छोड़कर अपने घर लौट रहा था, तभी यह हादसा हो गया।

किच्छा पंतनगर एवं रूद्रपुर मार्ग पर ओवरलोड मिट्टी के वाहन अधिकांश हादसे का सबब बनते रहते हैं। इसके बाद भी चालक ट्रकों में अधिक मात्रा में मिट्टी भरने से बाज नहीं आ रहे हैं। वहीं परिवहन विभाग तथा स्थानीय पुलिस व ट्रैफिक पुलिस द्वारा इस ओर ध्यान न देने से हादसे हो जाते हैं, वर्तमान में ओवरलोड मिट्टी से भरे हाईवा ट्रक सड़कों पर आसानी से देखे जा सकते हैं जो हादसों को खुलेआम दावत दे रहे हैं। इन्हीं ट्रकों से ना जाने कितने लोग मौत के मुहं में समा गए, फिर भी प्रशासन इस और अपनी आखें मूंदे बैठा है।
Advertisement
Advertisement