For the best experience, open
https://m.creativenewsexpress.com
on your mobile browser.

UP के बदायूं में दो सगे भाइयों की उस्तरे से गला रेतकर हत्या, आरोपी का एनकाउंटर

04:41 PM Mar 20, 2024 IST | CNE DESK
up के बदायूं में दो सगे भाइयों की उस्तरे से गला रेतकर हत्या  आरोपी का एनकाउंटर
Advertisement

UP News | बदायूं की बाबा कॉलोनी में 19 मार्च मंगलवार शाम 2 सगे भाइयों की उस्तरे से गला रेतकर हत्या कर दी गई। मृतकों की उम्र 14 और 6 साल थी। वारदात से गुस्साई भीड़ ने जमकर हंगामा किया। बाइक और दुकान में तोड़फोड़ की।

Advertisement
Advertisement

मंडी समिति पुलिस ने 3 घंटे बाद रात को एक्शन लेते हुए एक आरोपी साजिद को एनकाउंटर में ढेर कर दिया, जबकि दूसरा आरोपी फरार है। दोनों आरोपी भी भाई हैं। आरोपियों की पड़ोस में ही सैलून की दुकान है। अभी तक वारदात की वजह सामने नहीं आई है। फिलहाल, साजिद के पिता और चाचा को पुलिस ने हिरासत में लिया है।

Advertisement

हालांकि, बच्चों के पिता ने FIR में बताया कि वारदात के बाद पब्लिक ने साजिद को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया था। वहीं, पुलिस का कहना है कि साजिद वारदात के बाद फरार हो गया था। लोकेशन ट्रेस कर पुलिस उसके पास तक पहुंची थी।

"पैसे मांगे फिर बच्चों को मार दिया"

बच्चों की मां संगीता ने बताया, ''साजिद और जावेद बाइक से मेरे घर आए थे। जावेद बाइक लेकर बाहर खड़ा था। साजिद घर के अंदर आया। कहा कि भाभी मेरी पत्नी की डिलीवरी होनी है। वह अस्पताल में भर्ती है। मुझे 5000 रुपए दे दीजिए। मैंने साजिद को पैसे दे दिए।

Advertisement

इसके बाद मैंने उससे कहा चाय पी लो। मैं चाय बनाने चली गई। साजिद ने मुझसे कहा कि मुझे घबराहट हो रही है। मैं थोड़ा छत पर टहल लेता हूं। छत पर जाकर साजिद ने मेरे दोनों बच्चों की हत्या कर दी। हत्या का क्या कारण है पता नहीं है। मेरा उन लोगों से कोई विवाद नहीं है।''

मृतकों के घर के सामने ही है आरोपियों का सैलून

बाबा काॅलोनी में रहने वाले विनोद कुमार पेशे से ठेकेदार हैं। वे यहां अपनी पत्नी संगीता और बच्चों के साथ रहते हैं। संगीता घर में ही अपना ब्यूटी पार्लर चलाती हैं। वहीं, विनोद इस समय किसी काम से बाहर गए थे। इनके 3 बच्चे हैं। जिन दो बच्चों की हत्या हुई वे आयुष (14) और अन्नू उर्फ हनी (6) थे।

Advertisement

सीधे दूसरी मंजिल पर गए और करने लगे हमला

मंगलवार देर शाम साजिद और जावेद, विनोद के घर पर आए। दोनों की दुकान सामने थी और वह परिवार को जानते थे, इसलिए किसी ने ध्यान नहीं दिया। साजिद और जावेद सीधे विनोद के घर की दूसरी मंजिल पर चले गए। संगीता नीचे अपने पार्लर में थीं।

छत पर आरोपियों ने उनके तीनों बच्चों पर उस्तरे से हमला करना शुरू कर दिया। जिसमें आयुष और हनी की मौत हो गई। वहीं तीसरा बच्चा पीयूष घायल हो गया। उसके हाथ में चोट आई है। बच्चों की चीख सुनकर घरवाले और आस-पास के लोग पहुंच गए। तब तक आरोपी भाग गए।

दादी बोलीं- मैं चाय बनाने लगी, इसी बीच बच्चों को मार दिया

मृतक बच्चों की दादी मुन्नी देवी ने बताया कि साजिद-जावेद घर आए और मुझसे बात करने लगे। मैंने उनसे बैठने को कहा और अंदर चाय बनाने चली गई। तभी बीच वाला पोता चिल्लाते हुए भागकर मेरे पास आया। बोला- अम्मा ऊपर जाकर देखो।

मैं ऊपर गई, तो उन लोगों ने गेट बंद कर लिया। उनके पास एक बड़ा सा उस्तरा था। वो हमको भी मार देता, लेकिन मैं किसी तरह से बच गई। मैं जब तक चिल्लाकर लोगों को बुलाती तब तक वह घर से भाग गए। हमें कुछ नहीं पता कि उसने बच्चों को क्यों मारा?

बच्चों के पिता विनोद कुमार का कहना है, "मेरी आरोपियों से कोई दुश्मनी नहीं थी। मैं तो उन्हें जानता तक नहीं। पता नहीं उन्होंने ऐसा क्यों किया?''।

बच्चों की मां और दादी के बयान एक दूसरे से मेल नहीं खा रहे। मां का कहना है कि आरोपी घर आने के बाद उनसे मिले। पैसे मांगे फिर छत पर टलने के बहाने वारदात की। वहीं, दादी का कहना है कि आरोपी आने के बाद उनसे मिले। जब वह चाय बनाने गईं तब बच्चों को जाकर मार दिया।

सैलून से सामान निकालकर बाहर फेंका, आग लगाई

घटना से गुस्साए लोगों ने आरोपियों के सैलून में तोड़फोड़ की। सामान को सड़क पर फेंककर आग लगा दी। भीड़ ने मुरादाबाद-फर्रुखाबाद हाईवे पर जाम लगा दिया। घरवालों ने शव लेने आई एम्बुलेंस को भी वापस कर दिया। इसके बाद पैरामिलिट्री फोर्स बुलाई गई। तब जाकर शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया और हाईवे से जाम खुलवाया गया।

उधर, घटना की सूचना मिलने पर SSP आलोक प्रियदर्शी और DM मनोज कुमार भी मौके पर पहुंचे। अफसरों ने लोगों को समझा कर शांत कराया।

शेखूपुरा जंगल में मारा गया आरोपी

घटना के बाद पुलिस अफसरों ने साजिद और जावेद की तलाश में तीन टीमें लगा दीं। सर्विलांस से उनकी लोकेशन ट्रेस की गई। इसके बाद पुलिस लोकेशन को ट्रेस करते हुए सिविल लाइन थाने के शेखूपुरा जंगल में पहुंची। वहां पर टीम को देखते ही आरोपी ने फायरिंग शुरू कर दी। इसके बाद पुलिस की टीमों ने भी मोर्चा संभाला। जवाबी कार्रवाई में गोली चलानी शुरू की।

इसी दौरान एक गोली साजिद के पैर में लग गई। उसे जिला अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। ज्यादा खून बहने से उसकी मौत हुई है। वह बाबापुरी इलाके का रहने वाला था। वहीं, दूसरा आरोपी जावेद अभी फरार है।

DM बोले- हालात काबू में हैं, कार्रवाई की जा रही है

DM मनोज कुमार ने बताया, ''बाबा कॉलोनी में दो बच्चों की घर में घुसकर हत्या कर दी गई। इसके बाद SSP के साथ हम मौके पर पहुंचे। भीड़ को नियंत्रण में कर लिया गया है। मामले में सख्त कार्रवाई की जा रही है। छुटपुट आग की घटना हुई थी। उसे काबू में कर लिया गया है।''

IG डॉ. राकेश कुमार ने बताया, ''पुलिस ने आरोपी को पकड़ने की कोशिश की, तो उसने पुलिस टीम पर फायर कर दिया। जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने भी गोली चलाई, जिसमें आरोपी मारा गया। हत्या के कारण का पता लगाया जा रहा है। मामले में आगे की कार्रवाई की जा रही है।''

बच्चों के पिता ने FIR में क्या लिखवाया...

बच्चों के पिता ने FIR में कहा- मंगलवार शाम को घर के सामने सैलून की दुकान करने वाला साजिद जावेद के साथ बाइक से आया। उस वक्त घर पर पत्नी संगीता और मां मुन्नी देवी और 3 बच्चे, जिनके नाम हैं-आयुष (13), पीयूष (9) और आहान (6) मौजूद थे। साजिद ने पत्नी से कहा कि मेरी पत्नी को डिलीवरी होनी है। डॉक्टर ने 11 बजे रात का समय दिया है।

उस समय तक जावेद घर के बाहर खड़ा था। साजिद ने पत्नी से 5000 रुपए मांगे। पत्नी ने कहा कि अभी लाकर देती हूं, तभी साजिद ने बेटे पीयूष से पुड़िया लाने को कहा। पीयूष पुड़िया लेने चला गया। फिर साजिद ने पत्नी से कहा-पता नहीं, आज मेरा मन घबरा रहा है।

थोड़ी देर छत पर घूम लेता हूं। फिर पीयूष को अपने साथ छत लेकर चल दिया। आयुष से पानी लाने को कहा। फिर उसने भाई जावेद को भी अंदर बुला लिया। जावेद-साजिद, आयुष और आहान को साथ लेकर छत पर चले गए। पत्नी संगीता पैसे लेने अंदर घर में चली गई। पत्नी अंदर से पैसे लेकर बाहर आई, तो साजिद-जावेद जीने से उतर रहे थे।

साजिद-जावेद के हाथ में खून से सनी हुई छुरी थी। उन्होंने पत्नी को देखते ही कहा कि आज मैंने अपना काम पूरा कर दिया है। यह देखकर पत्नी घबरा गई। फिर चिल्लाने लगी। शोर सुनकर आस-पास के लोग आ गए। लोगों ने साजिद को पकड़ लिया। मगर जावेद भाग गया। फिर साजिद को पुलिस के हवाले कर दिया।

Advertisement