For the best experience, open
https://m.creativenewsexpress.com
on your mobile browser.

नानकमत्ता हत्याकांड का मुख्य षडयंत्रकारी सुल्तान सिंह समेत दो गिरफ्तार

04:35 PM Apr 13, 2024 IST | CNE DESK
नानकमत्ता हत्याकांड का मुख्य षडयंत्रकारी सुल्तान सिंह समेत दो गिरफ्तार
Advertisement

नानकमत्ता हत्याकांड अपडेट | नानकमत्ता हत्याकांड से जुड़े दो और षडयंत्रकारियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है, एसएसपी मंजूनाथ टीसी ने मीडिया को बताया कि, सतनाम सिंह को नेपाल बॉर्डर से लगते हुए गौरीफंटा जिला लखीमपुरखीरी और सुल्तान सिंह को हरियाणा से गिरफ्तार किया गया है। अब तक 9 षडयंत्रकारियों को गिरफ्तार किया है इनमें हत्याकांड का मुख्य षडयंत्रकारी सुल्तान सिंह है इसी ने अन्य षडयंत्रकारियों को एकत्रित किया और शूटरों को पैसे और हथियार उपलब्ध करवाए थे। बता दें कि 9 अप्रैल को एसटीएफ और हरिद्वार पुलिस ने थाना भगवानपुर क्षेत्र में अमरजीत सिंह उर्फ बिट्टू को एनकाउंटर में मार गिराया। हालांकि अभी भी हत्यारे का दूसरा साथी सर्वजीत सिंह फरार है जिसकी तलाश लगातार जारी है।

बता दें कि, 28 मार्च की सुबह नानकमत्ता में डेरा कार सेवा प्रमुख बाबा तरसेम सिंह की बाइक सवार दो शूटरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके बाद से ही पुलिस मामले में लगातार गिरफ्तारी कर रही है।

Advertisement

मामले में अब तक गिरफ्तार हुए आरोपियों के नाम पते

1- जसपाल सिंह भट्टी उर्फ मिन्टू पुत्र सतपाल सिंह निवासी केशोवाला मोड थाना बाजपुर जिला ऊधमसिंहनगर
2- सुखदेव सिंह गिल उर्फ सोनू गिल पुत्र सत्यपाल सिंह निवासी बन्नाखेडा थाना बाजपुर जिला ऊधमसिंहनगर
3- परगट सिंह पुत्र सोबरन सिंह निवासी तुलापुर थाना बिलसण्डा पीलीभीत
4- दिलबाग सिंह
5- बलकार सिंह
6- हरविन्दर सिंह उर्फ पिन्दी
7- अमनदीप सिंह उर्फ काला
8- सुल्तान सिंह पुत्र इन्दर सिंह निवासी गदाफार्म थाना बिलासपुर जिला रामपुर उ.प्र.
9- सतनाम सिंह पुत्र जगीर सिंह निवासी कुईया महोलिया थाना बंडा जिला शाहजहाँपुर उ.प्र.

Advertisement

यहां रची थी बाबा की हत्या की साजिश

सुल्तान सिंह ने अपने सह अभियुक्तों दिलबाग, बलकार, परगट व हरविन्दर उर्फ पिन्दी के साथ मिलकर बाबा तरसेम सिंह की हत्या का षडयन्त्र रचा। इस षडयन्त्र को पूरा करने के लिए उन्होंने आवास विकास स्थित गुरुद्वारे व दिलबाग के घर पर की गई मीटिंगों में विस्तृत योजना बनाई तथा हत्या हेतु सर्वजीत व अमरजीत नाम के पेशेवर अपराधियों को अपने साथियों के साथ मिलकर पैसा, मोबाईल, हथियार व अन्य संसाधन उपलब्ध कराकर साजिश को अंजाम तक पहुंचाया व घटना के बाद से ही लगातार फरार चल रहा था।

पुलिस के मुताबिक, तराई क्षेत्र में गुरुद्वारों व सिक्ख समुदाय से जुडे धार्मिक स्थालों पर वर्चस्व को लेकर चल रही रंजिश के कारण अभियुक्त सुल्तान द्वारा कुछ प्रभावशाली लोगों के साथ मिलकर बाबा तरसेम की हत्या करने के लिए दिलबाग, बलकार, परगट व हरविन्दर उर्फ पिन्दी व सतनाम को षडयन्त्र में शामिल करते हुए सुनियोजित तरीके से घटना को अंजाम दिया। अभियुक्त के मुख्य शूटर अमरजीत उर्फ बिट्टू उर्फ गंडा से सीधा सम्पर्क भी प्रकाश में आया है। षडयन्त्रकारियों को इस हत्या के लिए जोड़ने व शूटर्स को पैसा व अन्य संसाधन उपलब्ध कराने में भी अभियुक्त सुल्तान की मुख्य भूमिका रही है।

इनकी अपराध में संलिप्पता विषयक साक्ष्य संकलन की कार्यवाही प्रचलित है...

1- बाबा अनूप सिंह पुत्र राम सिंह निवासी नवाबगंज रामपुर उ.प्र.
2- प्रीतम सिंह संधू पुत्र लाल सिंह निवासी खेमपुर थाना गदरपुर जिला ऊधमसिंहनगर
3- हरवंश सिंह चुघ पुत्र रणजीत सिंह चुघ निवासी गदरपुर जिला ऊधमसिंहनगर
4- फतेहजीत सिंह खालसा पुत्र सुक्खन सिंह निवासी बिलहरा माफी थाना अमरिया जिला पीलीभीत उ.प्र.

उत्तराखंड ब्रेकिंग : एनकाउंटर में मारा गया बाबा तरसेम सिंह का हत्यारा

एसएसपी मंजूनाथ टीसी ने दिया नानकमत्ता हत्याकांड पर अपडेट, शूटरों पर अब 1-1 लाख रूपए का इनाम

Advertisement
Tags :