For the best experience, open
https://m.creativenewsexpress.com
on your mobile browser.

बागेश्वर: मानसून सत्र के लिए हर तरफ चाक चौबंद रहें इंतजाम

08:41 PM May 15, 2024 IST | CNE DESK
बागेश्वर  मानसून सत्र के लिए हर तरफ चाक चौबंद रहें इंतजाम
Advertisement

✍️ बरसात में हर संकट से निपटने को विभागों को किया सतर्क
✍️ डीएम अनुराधा ने बैठक लेकर दिए कई जरुरी निर्देश

Advertisement
Advertisement

सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने कहा कि मानसून काल में पर्याप्त संसाधनों की जरूरत होती है और जीवन रेखा से जुड़े विभाग अपने-अपने संसाधनों की पर्याप्त उपलब्धता बनाएं रखेंगे। सड़क महकमे डेंजर जोन व संवेदनशील क्षेत्रों का चिह्निकरण करेंगे। मशीनरी के साथ ही मानव संसाधन भी पर्याप्त उपलब्ध रहेगा।

Advertisement

कलक्ट्रेट सभागार पर मानसून सत्र की बैठक में जिलाधिकारी ने यह निर्देश दिए। जिले में संभावित अतिवृष्टि, भूस्खलन, बाढ़, नदी का जल स्तर बढ़नेे जैसी प्राकृतिक आपदा की घटनाओं के प्रभावी रोकथाम, बचाव तथा अन्य कार्य की तैयारियों की समीक्षा की। बंद सड़कों को तत्काल खोला जाएगा। कलमठ, नालियों की सफाई कर लें। कपकोट को जोड़ने वाला निर्माणाधीन मोटर पुल का कार्य पूरा करें। सोराग मोटर पुल का कार्य जून तथा कुंवारी मोटर पुल का कार्य तेजी से पूर्ण करने के निर्देश दिए। जलभराव की स्थिति से भी निपटना है। वन विभाग सड़क किनारे तिरेछे पेड़ों को चिह्नित करेगा। शहर में पेड़ों की टहनियों की लापिंग करा लें। बैठक में पुलिस अधीक्षक अक्षय प्रहलाद कोंडे, एडीएम एनएस नबियाल, एसडीएम मोनिका,जितेंद्र वर्मा, अधिशासी अभियंता लोनिवि एके पटेल, विद्युत मोहम्मद अफजाल, जल संस्थान सीएस देवडी, सिंचाई केके जोशी, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. हरीश पोखरिया, जिला पूर्ति अधिकारी मनोज कुमार बर्मन आदि उपस्थित थे।
ये व्यवस्थाएं करें अधिकारी

राशन, घरेलू गैस आदि की कमी नहीं होगी। राशन भी उपलब्ध कराएंगे। पेट्रोल, डीजल आदि उपलब्ध रहेगा। बिजली, पानी की व्यवस्था सुचारू करने के निर्देश दिए। आश्रय स्थलों पर भी व्यवस्थाएं करें। संवेदनशील स्कूलों के बच्चों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट करें। दवाइयां, पशु चारा, पशु टीकाकरण आदि की समीक्षा की। कुंती गधेरे से आने वाले मलबा, बोल्डर को रोकने के लिए चेकडैम बनाएं।
15 मशीनें रहेंगी मुस्तैद

Advertisement

अधिशासी अभियंता लोनिवि ने बताया कि बागेश्वर डिवीजन में तीन, कपकोट में दो लोडर मशीन हैं, जबकि 10 मशीनों को आउटसोर्स से लिया जाएगा। बागेश्वर डिवीजन में 2200 कलमट, कपकोट में 2100 कलमट में से अधिकांश खोल दिए गए हैं।

Advertisement
Advertisement