For the best experience, open
https://m.creativenewsexpress.com
on your mobile browser.

उत्तराखंड : बरोर नदी में नहाते समय डूबने से दो बच्चों की मौत

07:08 AM Mar 28, 2024 IST | CNE DESK
उत्तराखंड   बरोर नदी में नहाते समय डूबने से दो बच्चों की मौत
सांकेतिक तस्वीर
Advertisement

Kichha News | किच्छा कोतवाली क्षेत्र के ग्राम मलपुरा में बुधवार को दो बच्चे गांव के पास बरोर नदी में नहाते समय डूब गए। वहां मछली पकड़ने गए युवकों ने एक बच्चे को डूबा देख गांव के लोगों को सूचना दी। इसके बाद घटनास्थल पर पहुंचे ग्रामीणों ने दोनों बच्चों को बाहर निकाला और सीएचसी किच्छा में लेकर पहुंचे जहां चिकित्सक ने दोनों को मृत घोषित कर दिया।

जानकारी के अनुसार आतिफ मलिक (9) पुत्र फैसल मलिक और फैजान (9) पुत्र अफरोज मलिक गांव के पास बरोर नदी में नहाने गए थे। इसी दौरान वह गहरे पानी में चले गए और डूब गए। नदी में मछली पकड़ रहे युवकों ने एक बच्चे को पानी में उतराया देखा तो गांव के लोगों को सूचना दी। इस पर नदी किनारे ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई और दोनों बच्चों को बाहर निकाला। ग्रामीण दोनों को सीएचसी लेकर पहुंचे जहां डाॅक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

Advertisement

इसके बाद परिजन दोनों के शव घर ले गए। सूचना पर कोतवाली से एसएसआई विनोद जोशी गांव मलपुरा पहुंचे और शवों का पंचनामा भरवाकर पोस्टमार्टम के लिए रुद्रपुर भेजा। दो बच्चों की मौत से गांव में मातम पसर गया। वहीं तहसीलदार गिरीश चंद त्रिपाठी ने बताया कि पटवारी की सूचना पर उन्होंने घटनास्थल का निरीक्षण कर पूरी घटना की जानकारी उच्चाधिकारियों को दे दी है। बताया कि लालपुर से आने वाली नदी में कई जगह घुमावदार मोड़ हैं जिसके चलते नदी कई जगह गहरी है।

आतिफ कक्षा चार और फैजान कक्षा तीन का था छात्र

परिजनों ने बताया कि आतिफ आजादनगर के फोनेक्स स्कूल में कक्षा तीन में पढ़ता था जबकि फैजान लालपुर के एक स्कूल में कक्षा चार का छात्र था। बताया गया कि स्कूल में अवकाश होने के चलते दोनों बच्चे घर पर ही थे। दिन में गर्मी होने के चलते वह नदी में नहाने गए और हादसे का शिकार हो गए।

Advertisement

एक सप्ताह में दूसरी घटना से लोग स्तब्ध

एक सप्ताह में दूसरी बार नदी में डूबने से चार बच्चों की मौत से लोग स्तब्ध हैं। वहीं परिवार के लोग ईद मनाने की तैयारी में जुटे थे लेकिन सिरौलीकलां और मलपुरा गांव में हुईं इन घटनाओं से मातम पसर गया है।

चार दिन पहले 24 मार्च 2024 को सिरौलीकलां निवासी मो. साद और उसकी बहन अनम अपनी दादी के साथ घास काटने के लिए गौला नदी के किनारे गए थे। गर्मी अधिक होने पर दोनों गौला नदी में नहाते लगे और इसी दौरान गहरे पानी में दोनों डूब गए थे। वहीं बुधवार को गांव के बुजुर्ग इश्तेयाक अहमद, शरीफ अहमद मलिक आदि ने बताया कि आम तौर पर गांव के बच्चे इस नदी में नहाने के लिए नहीं जाते हैं। बताया कि इस तरह की यह पहली दर्दनाक घटना है।

Advertisement