For the best experience, open
https://m.creativenewsexpress.com
on your mobile browser.

उत्तराखंड: महिला ने अपने भतीजे से किया दुष्कर्म, 20 साल का कारावास

10:41 AM Apr 17, 2024 IST | CNE DESK
उत्तराखंड  महिला ने अपने भतीजे से किया दुष्कर्म  20 साल का कारावास
महिला ने अपने भतीजे से किया दुष्कर्म
Advertisement

🔥 कोर्ट ने मामले को विकृत कामुकता माना

देहरादून। विशेष न्यायाधीश (पोक्सो) अर्चना सागर की अदालत ने एक महिला को अपने भतीजे से दुष्कर्म का दोषी पाते हुए बीस साल के कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही दस हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया है।

Advertisement
Advertisement

दरअसल, गत 05 जुलाई 2022 को एक 16 वर्षीय किशोर की मां ने वसंत विहार थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। Court of Additional District and Session Judge Fast Track Special Court (POCSO) Pankaj Tomar ने नाबालिग के साथ दुष्कर्म के आरोपित को दोषी करार देते हुए 10 वर्ष कैद और 50 हजार रुपये जुर्माने का आदेश दिया है। कांस्टेबल महेंद्र सिंह नेगी की पैरवी के बाद न्यायालय ने यह फैसला सुनाया।

Advertisement

विवाद के बाद पति को छोड़ा, भतीजे से बनाने लगी संबंध

आरोपित महिला का पति से विवाद चल रहा था। जिसके बाद से वह मायके रहने लगी। यहां उसने अपने भतीजे के साथ संबंध बना लिए। जिसके बाद उसने एक बालिका को जन्म दिया। जब डीएनए मिलान हुआ तो वह भतीजे की ही निकली। कोर्ट ने इस मामले को विकृत कामुकता मानते हुए निर्णय सुनाया।

16 वर्षीय बेटे से संबंध बनाए

Assistant District Government Advocate Alpana Thapa के अनुसार, पांच जुलाई 2022 को 16 वर्षीय किशोर की मां ने वसंत विहार थाने में मुकदमा दर्ज कराया। कहा कि उनकी ननद पति से झगड़ा होने के बाद से गत छह माह से मायके में रह रही है। इस बीच महिला ने उनके 16 वर्षीय बेटे से शारीरिक संबंध स्थापित किए हैं। कुछ दिन पहले वह बेटे को लेकर लापता हो गई थी। वापस लौटी तो वह गर्भवती थी।

Advertisement

डीएनए जांच में आई सच्चाई सामने

थाने में मामले का मुकदमा दर्ज हुआ। जिसके बाद आरोपित बुआ को 09 जुलाई को 2022 को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। गर्भवती होने के चलते उसे दो जनवरी 2023 को कोर्ट से जमानत मिली। इसके बाद उसने बच्ची को जन्म दिया। बच्ची की डीएनए जांच कराई तो वह पीड़ित किशोर से मिला। इस बीच न्यायायलय में किशोर आरोप से पलट गया। उसने कहा कि बुआ के साथ उसने सहमति से संबंध बनाए थे।

कोर्ट ने माना लैंगिक हमला

न्यायायल ने माना कि भले ही किशोर ने स्वेच्छा से संबंध बनाए हों, लेकिन वह नाबालिग है। साथ ही उसकी बुआ उससे कई साल बड़ी है। डीएनए जांच रिपोर्ट और किशोर की उम्र को देखते हुए यह लैंगिक हमला है। महिला दोषी है अतएव उसे 20 साल कारावास का फैसला सुनाया गया। महिला को जेल भेज दिया गया है। ट्रायल के दौरान अभियोजन पक्ष ने छह गवाह और 14 दस्तावेजी साक्ष्य पेश किए गए।

Advertisement

महिला 06 बच्चों की है मां

शासकीय अधिवक्ता अल्पना थापा ने बताया कि यह महिला अब 06 बच्चों की मां है। इसके पूर्व से 05 बच्चे थे, जबकि किशोर से संबंध बनाने के बाद छठा भी हो गया। छठी संतान के रूप में उसने एक लड़की को जन्म दिया है।

महिला भी हो सकती है लैंगिक हमले की दोषी

इधर शासकीय अधिवक्ता अल्पना थापा और अधिवक्ता सौरभ दुसेजा ने कहा कि यदि कोई महिला नाबालिग बालक को अपनी यौन इच्छा पूरा करने के लिए इस्तेमाल करती है तो वह भी लैंगिक हमले की दोषी मानी जायेगी। काननू के अनुसार उसे भी सजा मिलेगी। मंगलवार को आया यह फैसला ऐतिहासिक है।

Tags :
Advertisement