For the best experience, open
https://m.creativenewsexpress.com
on your mobile browser.

यहां सड़क कटान के मलबे से पाट दी शिप्रा नदी, आंख मूंदे बैठे हैं हुक्मरान !

01:04 PM May 14, 2024 IST | CNE DESK
यहां सड़क कटान के मलबे से पाट दी शिप्रा नदी  आंख मूंदे बैठे हैं हुक्मरान
सड़क कटान के मलबे से पाट दी शिप्रा नदी
Advertisement

📌 भवाली—गरमपानी—अल्मोड़ा हाईवे का हाल

✒️ सड़क चौड़ीकरण के नाम पर चल रही मनमानी

✍️ कायदे—कानून, नियमों की उड़ाई जा रही धज्जियां

 

— गरमपानी से अनूप सिंह जीना की रिपोर्ट —

हल्द्वानी—अल्मोड़ा हाईवे पर गरमपानी क्षेत्र अंतर्गत मेंढक पत्थर (Frog Point) पर इन दिनों रात्रि में चल रहे सड़क चौड़ीकरण के कार्य के दौरान खुलेबाम सारा मलबा शिप्रा नदी में डाला जा रहा है। हालात यह है कि लगातार डाले जा रहे मलबे—पत्थर से काफी हद तक नदी को ब्लॉक कर दिया गया है। हद दर्जे की यह लापरवाही आने वाले मानसून में खतरे का सबब बन सकती है।

Advertisement

उल्लेखनीय है कि भवाली-अल्मोड़ा एनएच गत 01 मई 2024 से 31 मई 2024 तक रोजाना रात आठ बजे से सुबह छह बजे के बीच दो-दो घंटे के अंतराल में यातायात के लिए बंद रखा जा रहा है।

सड़क कटान के मलबे से पाट दी शिप्रा नदी
सड़क कटान के मलबे से पाट दी शिप्रा नदी

बता दें कि गरमपानी झूलापुल के पास हाईवे तीन साल पहले आयी आपदा के बाद से ही बदहाल है। यहां पर सबसे अधिक ट्रैफिक जाम होता है। इस समस्या के समाधान के लिए नेशनल हाईवे यहां सड़क को चौड़ा करने जा रहा है। इसके लिए एक मई से यहां रात के समय पहाड़ कटान का काम चल रहा है।

Advertisement

सड़क कटान के मलबे से पाट दी शिप्रा नदी
सड़क कटान के मलबे से पाट दी शिप्रा नदी

सड़क कटान का मलबा शिप्रा नदी में

इस बीच आम जनता ने शिकायत की है कि ​संबंधित विभाग व कंपनी द्वारा जो पहाड़ कटान का काम रात को किया जा रहा है। उसमें पूरा मलबा—गंदगी नीचे शिप्रा नदी में डाला जा रहा है। नदी का एक हिस्सा ही लगातार डाले गए मिट्टी पत्थरों से पट गया है। स्थानीय व्यापारियों व जनप्रतिनिधियों के अनुसार संबंधित विभागीय अधिकारियों को कई बार मौखिक शिकायत करने के बावजूद नदी में मलबा डालना बंद नहीं किया गया है।

नदी में मलबा डाला जाना गलत, कांट्रेक्टर से बात करेंगे : ईई लोनिवि

अ​धिशासी अभियंता लोनिवि हल्द्वानी डिवीजन प्रवीण कुमार ने पूछे जाने पर कहा कि नदी में यदि मलबा डाला जा रहा है तो यह गलत बात है। वह कांट्रेक्टर से इस संबंध में पूछेंगे। मलबा गाड़ी में डाल कहीं डंप करना चाहिए। इधर उन्होंने काकड़ीघाट से क्वारब तक चल रहे सड़क चौड़ीकरण के काम के दौरान कुछ लोगों के भवन संबंधितों को भुगतान किए जाने के बावजूद नहीं गिराये जाने पर भी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि अगले सप्ताह वह क्षेत्र का दौरा करेंगे। इस दौरान लोग उन्हें समस्याओं से अवगत करा सकते हैं।

सीएनई संवाददाता की ईई लोनिवि से बातचीत

सड़क कटान के मलबे से पाट दी शिप्रा नदी
सड़क कटान के मलबे से पाट दी शिप्रा नदी
Advertisement